मुहं के कैंसर और किडनी सहित 200 बीमारियों को ठीक करती है तुलसी..खाने का सही तरीका जान लीजिए

20449

आज हम बात करने जा रहे हैं तुलसी के फायदे और उसके महत्त्व के बारे में, यह तो सब जानते ही हैं कि तुलसी हिन्दू घरों में आसानी से मिल जाती है । तुलसी का ना सिर्फ औषधीय गुणों की वजह से काफी लाभकारी है बल्कि यह धार्मिक दृष्टि से भी काफी पूज्यनीय मानी जाती है । इसे माँ लक्ष्मी का रूप माना जाता है । तुलसी के बिना विष्णु भगवान की पूजा अधूरी मानी जाती है ।

तुलसी के 5 प्रकार होते हैं – राम तुलसी श्वेत तुलसी श्यामा तुलसी वन तुलसी नींबू तुलसी। एक पंक्ति में यदि बात की जाये तो इन पाँच प्रकार की तुलसी का रस हर मर्ज की दवा है । तुलसी के रस के फायदे – -चेहरे के लिए तुलसी : दोस्तों तुलसी में थाइमोल नामक एक पदार्थ पाया जाता है जो हमारी त्वचा के लिए काफी अच्छा होता है । इसके पत्तों को पीस कर कील मुहासों पर लगाएँ, यह काफी जल्दी से उन्हें ठीक कर देता है । इसे नियमित खाने से चेहरे पर चमक बनी रहती है । तुलसी के पत्ते पीस कर नींबू का रस मिलाकर इसे चेहरे पर लगाने से चेहरा कांतिमान बनता है ।

-सिरदर्द या मानसिक तनाव से निजात – तुलसी के पत्तों का काढ़ा पीने से मानसिक तनाव दूर होता है । किसी भी प्रकार का सिर दर्द हो ये काढ़ा नियमित रूप से पीने से काफी आराम मिलता है । -> खांसी, जुखाम और बुखार में लाभदायक – तुलसी की कुछ पत्तियाँ, काली मिर्च, काला नमक और अदरक को पानी में उबाल कर पियें, इससे खांसी, जुखाम और बुखार में काफी आराम मिलेगा । -> पेशाब में जलन – तुलसी के पत्ते चबाने से पेशाब में जलन नहीं होती । जिन को यह शिकायत है वह इसका प्रयोग करें जरूर लाभ होगा ।

-> स्त्रियों की समस्याओं में तुलसी के लाभ – तुलसी के पत्तों को चबाने से श्वेत प्रदर की समस्या में लाभ होता है । इसके सेवन से पीरियड समय पर आता है । दर्द आदि की समस्या नहीं होती है । -> वजन कम करने के लिए – तुलसी की पत्तियों को पीस कर दही के साथ खाने से वजन कम होता है । -> हिचकी ठीक करने के लिए – हिचकी आने पर तुलसी के 3 से 4 पत्ते चबा लीजिये तुरंत आराम मिलेगा । -> मुंह के रोगों के लिए लाभकारी – तुलसी की पत्तियों को पीस कर तेल में मिलाकर मसूड़ों व दाँतों की मसाज करें दाँतों की कोई समस्या नहीं होगी । तुलसी की कोमल पत्तियाँ नियमित रूप से चबाने से मुंह की दुर्गंध दूर हो जाती है । मुंह में किसी भी प्रकार का संक्रमण नहीं होता। रोज सुबह तुलसी का पत्ता खाने से मुंह का कैंसर भी ठीक होता है।

कान के रोगों में तुलसी के लाभ – तुलसी के रस में कपूर मिलाकर हल्का सा गर्म करके उसे कान में डालने से कान के रोगों में राहत मिलती है । जैसे किसी का कान बहता हो और कान में दर्द हो सूजन हो तो आप कान के बाहर के हिस्से में इस तेल से मसाज भी कर सकते हैं ।-> कोलेस्ट्रॉल में लाभदायक : तुलसी की नियमित रूप से 5 पत्तियाँ खाने से कोलेस्ट्रॉल की समस्या नहीं रहती । -> साँप के काटने पर – तुलसी के पत्ते तुरंत पीस कर खिलाने से साँप का जहर कम हो जाता है । इतना ही नहीं तुलसी की जड़ को पीस कर उसमें घी मिलाकर उस स्थान पर लगाने से तुरंत राहत मिलती है ।

-> मर्दाना ताकत के लिए – 100 ग्राम तुलसी के बीज में आधा किलो चीनी या मिश्री मिलाकर पाउडर बना कर इसे सुबह शाम एक एक चम्मच खाएं यह इतना ताकतवर चूर्ण होता है कि आपको शिलाजीत जैसी जड़ी बूटियों की भी जरूरत नहीं पड़ेगी । यह शारीरिक दुर्बलता को दूर करता है । -> पेट में कीड़े – यदि पेट में कीड़े हो जायें तो तुलसी के पत्तों को सुबह खाली पेट खाएं । इससे पेट के कीड़े मर जाते हैं साथ ही गैस जैसी समस्या भी नहीं रहती ।-> एंटी एजेंट तत्व – तुलसी में एंटी एजेंट तत्व पाये जाते हैं । जो शरीर के विषाक्त तत्वों को बाहर निकाल देते हैं । रक्त को शुद्ध करते हैं और त्वचा की रंगत को सवारते हैं ।

-> स्मरण शक्ति व बुद्धि के विकास के लिए – तुलसी के पत्तों को रोज बच्चों को देना चाहिए इससे उनकी बुद्धि में अलग सा विकास होता है । तुलसी के पत्तों के साथ मिश्री मिलाकर खाने से स्मरण शक्ति तेज होती है । इसे आप शहद के साथ भी खा सकते हैं । इससे भी आपको काफी लाभ होगा ।-> लू से बचाने के लिए – घर से बाहर जाते समय तुलसी के पत्तों का सेवन करके ही बाहर जायें । इससे ना तो आपको लू लगेगी और ना ही आपको बाहर चक्कर आएंगे ।

-> किडनी की समस्या – तुलसी की पत्तियों का अर्क (रस) बनाकर उसे पीने से किडनी के रोग दूर होते हैं । यदि किसी को किडनी में स्टोन की समस्या हो जाये तो नियमित रूप से यह पीने से कुछ ही दिनों में किडनी स्टोन बाथरूम के जरिये बाहर आ जाता है । शहद के साथ तुलसी खाने से किडनी से संबन्धित रोग दूर होते हैं । -> बालों की समस्याओं के लिए – दोस्तों बालों के झड़ने का कारण है रूसी तुलसी के तेल से मालिश करने से बालों की खुजली दूर हो जाती है और बालों से रूसी भी दूर हो जाती है । तुलसी के पाउडर को नारियल तेल में मिलाकर बालों में लगाने से बालों से संबन्धित रोग दूर हो जाते हैं । बाल घने लंबे व चमकदार हो जाते हैं ।

तुलसी को बचाने का उपाय – दोस्तों कभी – कभी आपने देखा होगा बिना ही कारण के हरे भरे तुलसी के पौधे में कीड़े लग जाते हैं और धीरे- धीरे वह सूख जाता है। इससे बचने के लिए आपको करना ये होगा कि जब तुलसी पर फूल आए और वह पक जाये तो उसे तोड़ लेना चाहिए । इसी पर कीड़े आते हैं और तुलसी के पौधे को सुखा देते हैं ।

तुलसी से सब्जा कैसे बनायें -तुलसी में से आप काले बीजों को अलग कर लीजिये । बाज़ार में पंसारी से आप एक जड़ी बूटी खरीदते हैं जिसे सब्जा कहा जाता है वह यही है। यह भी कई बीमारियों के लिए प्रयोग की जाती है । तुलसी के वैज्ञानिक लाभ – संध्या या अंधकार में तुलसी नहीं तोड़नी चाहिए क्योंकि तुलसी के पौधे की विद्युत तरंगें इस समय तेज हो जाती हैं । वह शरीर को नुकसान देती हैं ।तुलसी की माला यदि गले में धारण की जाती है इसके पीछे भी एक कारण है इससे कंठ संबंधी रोग नहीं होते ।तुलसी घर के वातावरण को शुद्ध करके घर में नेगेटिव एनर्जी को दूर कर देती है । सात्विक विचार रखने के लिए यह पौधा घर में जरूर लगायें । यदि कोई व्यक्ति कार्तिक मास में तुलसी के पत्ते का सेवन करता है तो उसे काफी समय तक डॉक्टर के पास जाने की जरूरत नहीं पड़ती । तुलसी हमारे रक्त को पतला करती है । इसलिए इसे किसी दवाई के साथ नहीं लेना चाहिए ।

तुलसी एक वरदान है जो भगवान द्वारा धरती पर भेजा गया है । जब भी आप तुलसी के पौधे को लगायें तो फूल धूप दीप के साथ लाल चुनर के साथ लगायें । इससे आपके घर में सुख शांति संपन्नता बनी रहती है धन धान्य से वह पूर्ण होता है। शाम के समय इसके आगे दीपक जलायें । इससे नकारात्मक शक्तियाँ घर में नहीं आती और घर बुरी नजर से बचा रहता है ।

आमतौर पर तुलसी के पौधे को जहां पाला पड़ता हो वहाँ ना रखें । पानी के अधिक डालने से भी यह मुरझा जाती है ।