Home / धर्म / इस महाशिवरात्रि पर इस तरह से करेंगे भगवान् शिव की पूजा तो महादेव होंगे प्रसन्न

इस महाशिवरात्रि पर इस तरह से करेंगे भगवान् शिव की पूजा तो महादेव होंगे प्रसन्न

नमस्कार दोस्तों हमारे वेब पोर्टल पर आप सभी का स्वागत है, भगवान् शिव हिन्दू धर्म के प्रमुख देवता है. हम भगवान् शिव को प्रसन्न करने के लिए शिव लिंग की पूजा करते है लेकिन हम शिव लिंग की पूजा करते समय कुछ ऐसी गलतियाँ कर देते है जिसके कारण हमे शिव लिंग की पूजा का पूरा फल नहीं मिलता है उल्टा हमे गलत पूजा के कारण हमे नुक्सान उठाना पड़ सकता है.आज हम आपको बताएँगे की हम शिव लिंग की पूजा करते समय वो कोनसी 5 बड़ी गलतियाँ करते है जिसके कारन हमे शिव पूजा का सही फल नहीं मिल पाता है.

शिवजी की पूजा में शंख का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि शंख चुड का वध भगवान् शंकर ने ही किया था, और शंख चुड का रूप शंख को माना गया है. शंख चुड और भगवान् शिव में शत्रुता का भाव माना जाता है, शंख चुड भगवान् विष्णु का भक्त था इसलिए शंख का इस्तेमाल भगवान् विष्णु की पूजा में विशेष तोर पर किया जाता है. शंख से ही भगवान विष्णु का स्नान और अभिषेक किया जाता है इसलिए शिवलिंग की पूजा में शंख का उपयोग कभी भूलकर भी नहीं करना चाहिए.

  1. तुलसी का उपयोग, कई लोग प्रसाद बनाने में तुलसी की पत्तियों का का इस्तेमाल करते है और वो लोग उसी तुलसी के डाले हुए प्रसाद से शिवजी को भोग लगा देते है. तुलसी का प्रसाद या तुलसी का किसी भी रूप में शिवलिंग की पूजा में प्रयोग नहीं किया जाता है, ऐसा करना पूरी तरह से वर्जित है क्योंकि तुलसी को भगवान् विष्णु की पत्नी का दर्जा दिया गया है इसलिए शिवलिंग की पूजा में तुलसी का उपयोग नहीं किया जाता है, तुलसी का उपयोग केवल विष्णु भगवान् और उनके अवतारों की पूजा के लिए ही किया जाना चाहिए.
  2. तिल का उपयोग- तिल से बनी मिठाईयो, तिल के लड्डू या अन्य तिल से बनी चीजो का उपयोग शिवलिंग की पूजा में नहीं किया जाता है क्योंकि तिल को भगवान् विष्णु का मेल माना जाता है, ऐसा कहा जाता है की तिल की उत्पत्ति भगवान् विष्णु में मेल से हुई है इसलिए शिवजी की पूजा में तिल का उपयोग नहीं करना चाहिए.
  3. सिन्दूर का उपयोग- कुमकुम एक श्रृंगार सामग्री मानी जाती है, कयी लोग शिवलिंग पर कुमकुम का टिका लगा देते है. भगवान् शिव बैरागी माने जाते है उनका श्रृंगार से दूर दूर तक कोई लेना देना नहीं रहता है, इसलिए शिवजी को कभी भी कुमकुम का टिका नहीं लगाया जाता है, शिवजी की पूजा में हमेशा चन्दन का उपयोग करना चाहिए
  4. हल्दी- कई बार शिव भक्त हल्दी आदि का लेप भी शिवलिंग पर कर देते है जो बिलकुल भी सही नहीं है.  क्योंकि हल्दी को भी एक श्रृंगार सामग्री माना जाता है और शिवजी की पूजा में किसी भी श्रृंगार सामग्री का उपयोग पूरी तरह से वर्जित है.

 

About yesviralnow

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *